सफाई के मामले में बेतिया हैं टॉप4 पायदान पर, फिर भी हैं खामिया..

सफाई के मामले में बेतिया हैं टॉप4 पायदान पर, फिर भी हैं खामिया.. 1


हमने आज सुबह अपना बेतिया ग्रुप में..बेतिया वासियों से एक सवाल पूछा था । polls के आधार पर के आपके हिसाब से बेतिया, बिहार के सबसे स्वच्छ शहरों में किस पायदान पर होगा?
ग्रुप में मौजूद 35हज़ार शहर वासियों में से बस 40 के करीब लोगो ने अपनी प्रतिक्रियां दी।
जिनमे से ज्यादातर लोगों ने ये अंदाजा लगाया के बेतिया स्वच्छ शहरों में नीचे पायदान पर होगा।

सफाई के मामले में बेतिया हैं टॉप4 पायदान पर, फिर भी हैं खामिया.. 2

अब हम आपको बताना चाहेंगे के बेतिया शहर बिहार के सबसे स्वच्छ शहरों के सूचि में चौथे स्थान पर हैं।
                   स्वच्छता सर्वेक्षण अभियान 2017 में बेतिया नगर परिषद को बिहार में चौथा स्थान मिला है। बिहार में वन से फोर तक के रैंकिंग में बिहारशरीफ, किशनगंज, पटना तथा बेतिया नगर परिषद शामिल है। 
इसमें बिहारशरीफ तथा पटना नगर निगम है। बेतिया तथा किशनगंज नगर परिषद है। जबकि, पूरे भारत में रैंकींग में बेतिया का 270वां स्थान मिला है। जबकि 2014/15 में इसका स्थान देश के सबसे गन्दे 500 शहरों में इसका स्थानब467वां था। अब रैंकिंग के आधार पर बेतिया नगर परिषद को विकास की राशि अधिक मिलेगी। इससे बेतिया का विकास ज्यादा होगा। 
बता दें कि दो तीन माह पूर्व दिल्ली की टीम पूरे देश में नगर निगम, नगर परिषद क्षेत्रों का दौरा किया था। 
इसी क्रम में टीम के तीन पदाधिकारी बेतिया भी पहुंचे हुए थे। उनके द्वारा नगर परिषद के महत्वपूर्ण कागजातों का अवलोकन किया गया। साथ ही टीम पूरे नगर परिषद क्षेत्र का भ्रमण कर सफाई व्यवस्था का जायजा लिया। इस क्रम में नगर के लोगों से पूछताछ भी की गई। टीम के सदस्यों ने उसी समय संकेत दे दिये थे कि बेतिया कि स्थिति ठीक है। टीम के द्वारा इसकी रिपोर्ट भारत सरकार को भी दी गई, जहां से रैंकिंग तय किया गया। टीम के सदस्यों ने स्पष्ट रुप से कहा था कि स्वच्छता सर्वेक्षण में रैंकिंग अच्छा मिलने पर उस नगर का विकास ज्यादा होगा। कारण कि संबंधित नगर निगम या नगर परिषद को विकास की राशि भी अधिक मिलेगी। इधर नगर विकास विभाग पटना को रैंकिंग की जानकारी दे दी गई है। साथ ही इसे विभागीय वेबसाईट पर भी डाल दिया गया है।
 

नगर परिषद, बेतिया
काफी खुशी है कि बेतिया नगर परिषद को स्वच्छता सर्वेक्षण में बिहार में चौथा स्थान मिला है। साथ ही पूरे देश में रैंकिंग में 270वां स्थान है। इसकी रिपोर्ट भी जारी कर दी गई है। अच्छा रैंकींग का फायदा नगर को विकास के रुप में मिलेगा। डा. विपिन कुमार कार्यपालक पदाधिकारी,


       
                               पर इसके बावजूद बेतिया में बढ़ रहे मच्छर पर काबू नहीं हो पाया।

सफाई के मामले में बेतिया हैं टॉप4 पायदान पर, फिर भी हैं खामिया.. 3


जिला मुख्यालय में मच्छरों के बढ़ते प्रकोप से लोग सिहर जा रहे हैं। यहां रात की कौन कहे दिन में भी मच्छरों का कहर कायम है। इसका मुख्य कारण यह है कि नगर की आधी से अधिक नालियां बजबजा रही है। साथ ही इन नालियों पर में स्लैब भी नहीं है। खुली नालियों में कचरा गिरने व खाद्य पदार्थो के फेंक देने के कारण उसमें से सड़ांध की बदबू आने के साथ साथ मच्छरों का पनपना लाजमी है। हद तो यह है कि नगर के मुख्य नाली पर कहीं भी स्लैब का दर्शन नहीं है। इन नालियों से पानी का बहाव नहीं होने के कारण कहीं कहीं इसमें छोटे छोटे पेड़ पौधे उग आये है। ऐसे ठंडे जगहों में मच्छरों का बैठना व अंडा देना तय है। 

यही कारण भी है पूरा शहर मच्छरों के आतंक से परेशान है। हालांकि नगर परिषद के निर्देश के बाद भी किसी खास अवसर पर ही दवा का छिड़काव देखा जाता है। इससे मच्छरों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। जवाहिर प्रसाद, जयकांत सिंह, पवन पाठक, रामेश्वर सिंह, अरूण पांडेय आदि की माने तो मच्छरों से पूरा शहर प्रभावित है। दिन में भी मच्छरों का प्रकोप ज्यादा ही बढ़ गया है। नगर परिषद के द्वारा इस दिशा में ठोस कदम नहीं उठाया जा रहा है।

मच्छरों के काटने से फैलती है कई बीमारी
प्रसिद्ध चिकित्सक डा. एम. सलाम का कहना है कि मच्छरों के काटने से कई तरह की बीमारी फैलती है। इससे कभी कभी शरीर में चकता जैसे हो जाता है। जिसे लोग खुजला देते है। कभी कभी जोर से खुजलाने पर वहां से ब्लड भी निकल जाता है। वहीं इसके काटने से कभी कभी पूरे शरीर में इंफेक्शन हो जाता है। डेंगु मच्छर के काटने पर मरीज को और भी परेशानी होती है। कभी कभी विषैले मच्छरों के काटने से बुखार भी हो जाते है।

बचाव के उपाय
मच्छरदानी का प्रयोग करें।
आसपास में जलजमाव व गंदगी जमा नहीं होने दें।
मच्छरबती का भी उपयोग करना चाहिए।
घर के आसपास चूना व ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करना चाहिए।
घरों की साफ सफाई पर भी ध्यान दें।
घर को हवादार व सूर्य का प्रकाश लगने देना चाहिए।

 

नगर परिषद, बेतिया
नगर परिषद की फॉगिंग मशीन खराब है। इसे जल्द ही ठीक कराया जाएगा। साथ ही स्प्रे मशीन पर्याप्त संख्या में उपलब्ध है। कर्मियों को माह में दो तीन बार दवा का छिड़काव करने का आदेश दिया गया है। साथ ही नालियों की साफ सफाई बढ़ाने व कचरा का उठाव कार्य में और भी तेजी लाने का निर्देश दिया गया है। डा. विपिन कुमार कार्यपालक पदाधिकारी

Leave a Comment