in

राणा की देखरेख में की गयी थी हत्या, बम विस्फोट, मर्डर व रंगदारी में पुलिस को थी राणा की तलाश।।

बेतिया: विगत दिनों बेतिया कोर्ट परिसर में गैंगेस्टर बबलू दूबे को गोली राणा प्रताप सिंह उर्फ राणा सिंह की देखरेख में मारी गई थी। बबलू की हत्या की योजना बनाने के बाद अपने साथी अपराधियों के बाद पूर्वी चंपारण के पकड़ी दयाल थाना अंर्तगत थरबिटीया निवासी राणा कोर्ट परिसर में मौजूद था। वह योजना का मोनिटरिंग कर रहा था। जब बबलू पर ताबड़तोड़ गोलियां झोंकी जा रही थी, तो वह कुछ ही दूरी पर खड़ा रह कर इसका नजारा देख रहा था। बबलू की हत्या के बाद अन्य अपराधियों के साथ राणा भी फरार हो गया था।

राणा की देखरेख में की गयी थी हत्या, बम विस्फोट, मर्डर व रंगदारी में पुलिस को थी राणा की तलाश।। 1

इमली चौक से गिरफ्तारी की हुई पुष्टी

पुलिस सोमवार को राणा की गिरफ्तारी की पुष्टी कर दी है। नगर थाना में आयोजित प्रेस कांफ्रेस में सदर डीएसपी संजय कुमार झा ने पत्रकारों को बताया कि कुख्यात राणा सिंह की गिरफ्तारी कर ली गई है। उन्होंने कहा कि पुलिस अधीक्षक को गुप्त सूचना मिला कि दो जिलों का कुख्यात व फरारी राणा सिंह बेतिया में प्रवेश कर रहा है। वह अपने साथियों के साथ कोई बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में था। सूचना के आलोक में एसपी ने नगर थानाध्यक्ष व तकनीकी सेल की एक टीम गठित की। जिसमें मोतिहारी पुलिस का भी सहयोग लिया गया। टीम नगर के इमली चौक इलाके में छापेमारी कर राणा को गिरफ्तार कर लिया। उसके एक साथी नौतन थाना क्षेत्र के श्यामपुर कोतराहा निवासी संतोष राव को भी पुलिस ने कब्जा में ले लिया। पुलिस के अनुसार छापेमारी रविवार की रात्रि किया गया। डीएसपी ने बताया कि राणा के पास से एक देशी पिस्तौल व तीन कारतूस भी जब्त किया गया है..

मुख्य आरोपित कुणाल सिंह वैशाली से गिरफ्तार

कोर्ट परिसर में हुए शातिर बबलू दूबे हत्याकांड का मुख्य आरोपित कुणाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है. बेतिया पुलिस ने कुणाल की गिरफ्तारी वैशाली जिले से की है. कुणाल के साथ दो अन्य भी गिरफ्तार हुए हैं. हालांकि अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पा रही है. लेकिन, पुलिस सूत्रों के अनुसार बेतिया एसपी की अगुवाई में वैशाली पहुंची पुलिस ने कुणाल सिंह को उस समय गिरफ्तार कर लिया है, जब वह अपना ठिकाना बदलने की फिराक में था.

सूत्रों की माने, तो यह गिरफ्तारी दो दिन पहले गिरफ्तार किये गये कुणाल सिंह के सहयोगी राणा सिंह की निशानदेही पर हुई है.गौरतलब हो कि बेतिया कोर्ट परिसर में पेशी के दौरान शातिर बबलू दूबे की हत्या गोलियों से भून कर कर दी गयी थी. इस मामले में मोतिहारी के पिपराकोठी थाने के कुडिया बंगरी गांव निवासी कुख्यात अपराधी कुणाल सिंह ने अखबारों के कार्यालयों में फोन कर बबलू की हत्या की जिम्मेवारी ली थी. इसमें उनके नेपाल के व्यवसायी सुरेश केडिया के अपहरण में वसूली गयी फिरौती की रकम को हड़पने की बात थी. इसी बीच एक ऑडियो भी वायरल हुआ था. इसमें कुणाल और बबलू दूबे के बीच हुई बातचीत सुनायी दे रही थी. इधर, बेतिया पुलिस ने दो दिन पहले बबलू दूबे की हत्या में शामिल अपराधी मोतिहारी निवासी राणा सिंह को गिरफ्तार किया. सूत्रों की मानें, तो राणा सिंह की निशानदेही पर बेतिया पुलिस ने वैशाली से कुणाल सिंह को गिरफ्तार करने में सफलता पायी है..

बम फेंक आया था अपराध की दुनिया में

थरबिटीया निवासी पूर्व मुखिया रामश्वेर नारायण सिंह उर्फ छेदी सिंह का पुत्र राणा सिंह करीब चार वर्ष पूर्व अपराध की दुनिया में कदम रखा था। मोतिहारी के टाटा मोटर्स से रंगदारी मांगने व बम फेंक कर वह अपराध की दुनिया में कदम रखा था। हालांकि घटना के बाद उसकी गिरफ्तारी हो गई थी। जेल से निकलने के बाद फिर से अपराध की दुनिया में सक्रिय हो गया। अपने ही पंचायत के मुखिया सहित दो को गोलियों से भूनकर इलाके का बेताज आपराधिक बादशाहत कायम करने की कोशिश की थी। ताबड़तोड़ कई घटनाओं को अंजाम देकर बड़े अपराधियों के लिस्ट में अपना नाम शामिल कर लिया। एक दौर ऐसा था जब व्यवसायी इसके नाम से कांपते थे। अक्सर यह पूर्वी चंपारण में ही घटनाओं को अंजाम देता था। गैंगेस्टर बबलू दूबे हत्याकांड में इसका नाम आने के बाद बेतिया एसपी विनय कुमार राणा को पकड़ने के लिए जाल बिछा दिए थे, और इस जाल में वह फंस गया।

कुणाल ने किया था राणा से संपर्क

बबलू दूबे हत्याकांड का फरारी आरोपी कृणाल ¨सह राणा से संपर्क किया था। दोनों ने मिलकर बबलू दूबे की हत्या की साजिश रची थी। कुणाल के बुलावे पर राणा बेतिया पहुंचा था। योजना बन जाने के बाद जब सारे अपराधी कोर्ट परिसर में पहुंचे तो उनके साथ राणा भी कोर्ट परिसर में आया था। घटना को अंजाम देने के बाद वह अरेराज इलाके में शरण ले लिया।

11 मई को हुई थी गैंगेस्टर बबलू दूबे की हत्या

राणा की देखरेख में की गयी थी हत्या, बम विस्फोट, मर्डर व रंगदारी में पुलिस को थी राणा की तलाश।। 2

विगत 11 मई को बेतिया कोर्ट परिसर में दिनदहाड़े गैंगेस्टर बबलू को गोलियों से छलनी कर दिया गया। बबलू को पुलिस सरंक्षण में मोतिहारी जेल से बेतिया कोर्ट में एक मामले में पेशी के लिए लाया गया था। पुलिस कस्टडी के दौरान हुई हत्याकांड की खबर ने लोगों को सन्न कर दिया था। इस मामले में पुलिस चार लोगों को पहले ही गिफ्तार कर लिया है। जबकि पुलिस को राणा की भी तलाश थी। मोतिहारी पुलिस भी करीब दो वर्षो से राणा की दबोचने की कोशिश में थी। बबलू दूबे हत्याकांड का मुख्य शूटर कुणाल अभी भी फरार है।

राणा का आपराधिक वारदात एक नजर

  • पंचायत चुनाव 2016 के दौरान अपने पंचायत में बूथ कब्जा करने की कोशिश मामले में आरोपी,
  • बूथ कब्जा करने के दौरान राणा ने चलायी थी गोली
  • अपने पंचायत के मुखिया माधव लाल सहनी पर की थी फायरिंग, घटना में अमिताभ सहनी की हुई थी मौत
  • सिरहा नरसंहार कांड में था शामिल, नरसंहार में एके 47 से चार व्यक्तियों की की गई थी हत्या
  • पकड़ीदयाल में नगर अध्यक्ष मनोज कुमार सहित दो की हत्या
  • हरसिद्धी के व्यवसायी चिरकुट व विनय से मांगी थी 30-30 लाख की रंगदारी
  • चोरमा के अरूण केसरी से मांगी थी 10 लाख की रंगदारी
  • मोतिहारी में टाटा मोटर्स पर फेंका था बम

What do you think?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अब कचरों से बेतिया में बनेगा बायो कम्पोस्ट, कूड़ा-कचरा शहर के सड़कों व गलियों में पसरा नहीं मिलेगा।

इंतज़ार खत्म जुलाई से नरकटियागंज से महज 42km रह जाएगा रक्सौल…