in

ब्रेकिंग न्यूज़ दिन दहाड़े पुजारी की हत्या

बेतिया: जिले में अपराध का सिस्टम बदल रहा है गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजने वाली इस धरती पर अब चाकू से वार कर हत्या जैसी घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। पुजारी लक्ष्मण मिश्र को इस बात का जरा भी अहसास नहीं था कि पल भर में क्या होने वाला है। वे तो अपने परिचित के लड़की की सगाई में बसवरिया पहुंचे हुए थे। घुसुकपुर के मनौवर आलम के बेटी की सगाई को लेकर बसवरिया आना महज इतेफाक था या फिर पुजारी कि किस्मत वहीं हारने वाली थी, बता दें कि करीब नौ बजे पुजारी लक्ष्मण मिश्र सगाई में नाश्ता किए और फिर यह कह कर गए कि मैं अपनी शिष्या के घर से आ रहा हूं। लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था। सगाई में पहुंचे लोग भोजन करने लगे तो पुजारी की खोजबीन शुरू हुई इसी बीच जानकारी मिली एक व्यक्ति की हत्या पूर्व पार्षद के घर वाली गली में हो गई है। लोग उस ओर दौड़ पड़े। सगाई में शामिल लोग जब उक्त व्यक्ति को देखा तो वह कोई और नहीं पुजारी लक्ष्मण मिश्र थे। स्थानीय लोगों ने उन्हें घायल अवस्था में एमजेके अस्पताल पहुंचाया। जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।


बंदूक की जगह धारदार हथियार का इस्तेमाल कर रहे अपराधी

हाल ही के दिनों में जिस प्रकार हत्या की वारदात को अपराधियों ने अंजाम दिया है उससे साफ हो गया है कि बंदूक की जगह अब अपराधी या फिर हत्या को अंजाम देने वाले कतिपय तत्व चाकू को इस्तेमाल करने लगे है। 28 मार्च को सिकटा थाना के शिकारपुर निवासी मुन्नी देवी ने अपने ही पति नेता पटेल की हत्या कर शव को गायब कर दिया था। नेता के परिजनों ने आरोप लगाया था कि उसके बेटे की हत्या तेज धारदार हथियार से कर शव को गायब कर दिया गया। इससे पहले 22 मार्च को चनपटिया में केसरिया के राज मोहम्मद की हत्या धारदार हथियार से कर शव को रेल ट्रैक पर फेंक दिया गया था उसके शरीर पर भी जख्म के कई निशान पाए गए थे। 11 जून को बिजबनिया में बिरगुन साह ने अपनी ही बेटी दीपा सात वर्ष की हत्या कुदाल से काट कर दी थी। ऐसे कई मामले हें जिनमें धारदार हथियारों का इस्तेमाल किया गया। पुजारी लक्ष्मण मिश्र की भी हत्या चाकू से गोद कर दी गयी।

ब्रेकिंग न्यूज़ दिन दहाड़े पुजारी की हत्या 1

पुजारी के बेटे ने दर्ज कराई प्राथमिकी

मृतक पुजारी बैरिया थाना के खिरियाघाट के रहने वाले थे। उनके पुत्र चंदन कुमार ने पुजारी की शिष्या बसवरिया अंबेडकर नगर के निर्मला देवी के पुत्र सागर राम, तारकेश्वर राम, प्रेम कुमार को आरोपी बनाया है। हत्या क्यों व किस कारण से की गयी है? इसका खुलासा नहीं हुआ है। बताया जाता है कि बसवरिया घुसुकपुर मोहल्ले के मनौवर आलम के पुत्री की सगाई के लिए बसवरिया धुनियापट्टी मोहल्ले में आयी थी। पुजारी लक्ष्मण मिश्र सगाई समारोह में शामिल होने के लिए लड़के पक्ष की ओर से आये थे। नास्ते के बाद सभी लोग सगाई समारोह में लग गये। इसी बीच पुजारी अंबेडकर नगर निवासी शिष्या निर्मला देवी के घर जाने की बात कहे व कुछ ही देर में लौटने की बात कह चल दिए। सगाई समारोह खत्म होने के बाद खाने-खिलाने की दौर जब शुरू हुआ तो लड़का पक्ष खाने के लिए पुजारी का इंतजार करने लगा। इस दौरान सूचना मिली पूर्व पार्षद के घर के समीप वाले गली में किसी की हत्या कर दी गयी है। घटना की सूचना पर एमेजेके अस्पताल पहुचे पुजारी के बेटे ने तीन लोगों के खिलाफ हत्या की प्राथमिकी दर्ज करायी।

                                                           पुजारी लक्ष्मण मिश्र हत्याकांड में एक आरोपी को हिरासत में लिया गया  है। पुलिस पूछताछ में जुटी हुई है। हत्याकांड को क्यों अंजाम दिया गया  है पुलिस मामले की सूक्ष्मता से जांच में जुटी है। जल्द ही हत्या के कारणों का पता लगा लिया जाएगा।
                                                      नित्यानंद चौहान, थानाध्यक्ष

स्त्रोत-दैनिक जागरण

What do you think?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बेतिया और नरकटियागंज की छात्राओ को बिहार टीम में मिली जगह

विदेशियों को पसंद आया बेतिया का स्वीट्स और स्नैक्स, जम कर किया तारीफ