in , , ,

बेतिया में जल्द ही आंखों के कॉर्निया का ट्रांसप्लांट हो सकेगा संभव, खुलेगा आई बैंक..जरूर पढ़ें

बेतिया: गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में अब आंखों के कॉर्निया का ट्रांसप्लांट संभव हो सकेगा। दुर्घटना या अन्य कारणों से आंखों की रोशनी गंवाने वाले मरीजों के आंखों की रोशनी फिर से प्राप्त हो सकेगी। 
बेतिया में जल्द ही आंखों के कॉर्निया का ट्रांसप्लांट हो सकेगा संभव, खुलेगा आई बैंक..जरूर पढ़ें 1
हालांकि, इस सुविधा को शुरु करने में अभी थोड़ी देर हैं लेकिन इसके लिए विभागीय कवायद शुरू कर दी गई है। यदि सबकुछ ठीक-ठाक रहा तो बहुत जल्द ही आंखों की रोशनी गंवाने वाले मरीजों को यह सुविधा मिलने लगेगी। सबसे खास बात यह हैं कि यहां यह सुविधा बिल्कुल नि:शुल्क होगी। विभागीय जानकारों के अनुसार आई बैंक की स्थापना के लिए कवायद तेज कर दी गई हैं। विभागीय अधिकारियों से लेकर एमसीआई का भी जोर आईबैंक पर रहा है। पिछले सप्ताह पटना में हुई विभागीय बैठक के दौरान भी इस मुद्दे पर जमकर चर्चा हुई। अधिकारियों ने कॉलेज प्रशासन को हर हाल में इसकी कवायद शुरू करने की हिदायत दी। 
बेतिया में जल्द ही आंखों के कॉर्निया का ट्रांसप्लांट हो सकेगा संभव, खुलेगा आई बैंक..जरूर पढ़ें 2
इस कड़ी में कॉलेज प्रशासन की ओर से जगह चिह्नित करते हुए प्री फेबरिकेटेड भवन बनाने का प्रस्ताव दिया गया है। इस संदर्भ में बीएमसीआईएल को भी लिखा गया हैं। ताकि जल्द से जल्द आई बैंक की स्थापना के साथ ही आंखों के कॉर्निया का ट्रांसप्लांट का लाभ लोगों को मिल सके। विभागीय जानकारों की माने तो कॉलेज प्रशासन की ओर से जागरूकता व ब्रेन डेथ कमिटी बनाने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई हैं।

क्या है कॉर्निया?
बेतिया: कॉर्निया आंख का काला हिस्सा होता हैं। इसके खराब होने से मरीज को दिखाई नहीं देता हैं। यानी उसकी आंखों की रोशनी चली जाती हैं। चिकित्सकों के अनुसार दुर्घटनाओं के समय अक्सर मरीजों की आंखों की रोशनी चली जाती हैं। नतीजतन, उसे बदल कर दूसरा लगाया जाता हैं। ट्रांसप्लांट होने पर रोशनी पुन: बहाल हो जाती हैं। आई बैंक बनने की घोषणा के साथ ही इस सुविधा के मिलने की उम्मीद बढ़ गई हैं। यहां आई बैंक बनने के बाद दाताओं द्वारा दान किए गए आंख को रखने की सुविधा होगी। जब बैंक में आंख रखे जाएंगे तो नि:श्चित रूप से उसका ट्रांसप्लांट होगा।

नेत्रदान के लिए चलाया जाएगा जागरूकता अभियान
बेतिया: नेत्रदान के लिए गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज की ओर से जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। इसके लिए टीम बनाकर लोगों को जागरूक किया जाना हैं।

बेतिया में जल्द ही आंखों के कॉर्निया का ट्रांसप्लांट हो सकेगा संभव, खुलेगा आई बैंक..जरूर पढ़ें 3

विभागीय जानकारों के अनुसार जागरूकता टीम की कमान मेडिकल कॉलेज के कम्यूनिटी मेडिसीन के हेड डा. शिल्पी रंजन संभालेगी। टीम जिले के हर एक लोगों को नेत्रदान के लिए प्रेरित करेगी। ताकि जरूरतमंदों के जीवन में रोशनी लाया जा सके।

छह सदस्यीय होगी ब्रेन डेथ कमेटी
बेतिया: गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में खुलने वाले आई बैंक के लिए ब्रेन डेथ कमेटी बनाने की कवायद शुरू कर दी गई हैं। यह कमिटी छह सदस्यीय होगी। कमिटी में सर्जरी विभाग के दो, मेडिसिन विभाग के दो और एनेथेसिया विभाग के दो चिकित्सकों को रखा जाएगा। यहीं कमिटी नेत्रदान की प्रक्रिया पूरा करने के साथ-साथ संबंधित व्यक्ति के आंखों की जांच करेगी। दूसरे के लिए वे आंख कारगर हैं या नहीं ब्रेन डेथ कमिटी ही निर्णय लेगी।

आई बैंक के लिए कार्रवाई शुरू कर दी गई हैं। स्थल चयन का काम पूरा हो गया हैं। प्रीफेबरिकेटेट भवन निर्माण के लिए बीएमसीआईएल को लिखा गया हैं। ब्रेन डेथ कमिटी एवं जागरूकता कमिटी गठित करने का काम अंतिम चरण में हैं। अभियान चलाकर आम लोगों को नेत्रदान के लिए प्रेरित किया जाएगा। – डा. राजीव रंजन प्रसाद (प्राचार्य)गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज, बेतिया

What do you think?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

चूल्हे से निकली चिंगारी, और आग से जल कर राख हो गयी 150घर..

दिखावा वाला विकाश: बेतिया के हर कोने में पसरी हैं गंदगी, नप केवल ख़बरों में दिखाता हैं सफाई..